Micro processor 8086 | basic organization of mpcu hindi

1.एक सिंगल CPU चिप माइक्रोप्रोसेसर है, जिसे सिस्टम का ब्रेन कहते हैं क्योंकि यह सारी गतिविधियों को नियंत्रित करता है,CPU के पास Temporary स्टोरेज उपलब्ध होता है जिसे Register कहते हैं| जिनमे निर्देश उनके DATA तथा Processing मध्य सूचनाओं को Hold किया जाता है, इनकी साइज हमेशा 2 की घातांक में होती है। 

2.CPU का main processing element ALU होता है जो कि सारी arithmetic व logic operation को परफॉर्म करता है। 

3.Control Unit सिग्नल को Generate करने का दूसरी इकाई को नियंत्रित करने के लिए जिम्मेदार होता है। 

4.CPU के अंदर आंतरिक bus एक inter connected network प्रदान करती हैं ,जिसके माध्यम से सिग्नल का आदान प्रदान होता है. CPU की आंतरिक BUS को बाहरी BUS से जोड़ने का कार्य जो इकाई करती हैं उसे Interface इकाई कहते हैं|

5.Control unit को डिजाइन करने के लिए दो तरीकों का प्रयोग किया जाता है
  1. Hardwired Control Unit -read
  2. Microprogram Control Unit -read
6.Control Word ऐसा binary stream (जो 0 and 1से बनती है) जिनकी प्रत्येक bit control signal उत्पन्न करती हैं जिसके आधार पर निर्देश का क्रम पूर्ण होता है| जैसा की चित्र में दिखया गया है 
image:

प्रोसेसिंग के लिए निम्न Points को समझना आवश्यक है :
1. Staring  Address Generator 
इस पर इकाई microprogram के पहले निर्देश के address को calculate एवं Generate करने का कार्य करती है, यह कार्य जब Instruction register में नए निर्देश को load किया जाता है तथा तब पूर्ण किया जाता है| 
2. Microprocessor Program Counter
यह इकाई जब किसी micro instruction को read किया गया हो clock को 1 से इंक्रीमेंट कर देते हैं microprogram control unit में कई ऐसे निर्देश भी होते हैं जिनका execution किसी विशेष प्रकार की अवस्था पर निर्भर करता है। इनके लिए stats flag and branching logic का प्रयोग किया जाता है।
6. Control Word 
control word में कुछ bits इन branching logic तथा इसकी विशेष अवस्था को दर्शाती है ।जिसके आधार पर microprogram के क्रम में बदलाव किया जाते है तथा calculate करके next micro instructions को fetch किया जाता है ।

7. Microprogram counter
समान्य अवस्था में यह अपने आप को increment करके प्रोग्राम के क्रम को बनाए रखता है 
कुछ विशेष अवस्थाओं को छोड़कर....
  1. जब भी कभी अंतिम निर्देश का पता लगे।
  2. जब instructions register में नया निर्देश load किया जाए।
  3. किसी प्रकार की branching logic को संतुष्ट किया गया 
8. Control Memory 
यह एक प्रकार कि Random access प्रकार की Memory होती है जिनमें addressable register उपलब्ध होते हैं इन्हें शुरुआत में मेनफ्रेम कंप्यूटर के लिए प्रयोग किया गया था तथा इन्हें प्रोग्राम लेने का मुख्य कारण उनकी उच्च गति है, क्योंकि यह डाटा एक्सेस में मेन मेमोरी से भी कम समय लेता है।इस एक्ट्रेस को control sequence का भाग मानकर प्रयोग में लिया जाता है control memory में समान्य 5 रजिस्टर का प्रयोग किया जाता है जिन्हें Direct CPU logic द्वारा प्रयोग में लिया जा सकता है।

No comments:

Post a Comment

सवाल पूछने के बाद "Notify me" आप्शन को ✔(Right Mark) करे, ताकि आपके पूछे गये सवाल का जवाब मिलने पर आपको सुचना मिल जाये:-