Learn Better | Life Better

What is Sequencing in microprogram control organisation

What is Sequencing in microprogram control organisation

सिक्वेंसिंग(Sequencing)
1.यह एक माइक्रो कंट्रोल यूनिट को दो भागों से मिलकर बना देखा जाता है-
a. कंट्रोल मेमोरी for micro instruction
b.Sequencing (which control generation of next address)

2.मेमोरी इनपुट को कंट्रोल करने के लिए इसके साथ Micro Sequencing में micro instruction की कुछ bits होती है जिसमे इसके कंट्रोल मेमोरी के Next Address निर्धारित करता है.

3. It provide following address Sequencing
a) control memory के लिए present address में increment.
b) micro-interactions के address के field के द्वाराbspecified address पर branches.
c) branches of given address =1
d)  external source (IR) द्वारा निर्दिष्ट के रूप में एक नए address पर एड्रेस ट्रांसफर होता हैं.

The format generally technique based
One address field
Two address field
Variable format
Two address field
यह प्रत्येक माइक्रो इंट्रोडक्शन मैं दो एड्रेस Field प्रदान करने का एक तरीका है और सेलेक्ट करने के लिए मल्टीप्लेक्सर प्रदान किया जाता है.
1) Address from the 2ed address field.
2) Starting address based on opcode field in the current instructions.
One address field
Address selection signal branch logic module द्वारा प्रदान किए जाते हैं जिसके इनपुट कंट्रोल यूनिट स्लैग शामिल होता है plus with micro-interactions control partition से.

One address field
two address एक simple approach लेकिन इसे थोड़ा अधिक आवश्यकता होती है हमारे पास Next एड्रेस के लिए निम्नलिखित विकल्पों का साथ micro-interactions में एक सिंगल एड्रेस फील्ड हो सकता है.
A) Address Field
Based on opcode in instruction registers
B) Next Sequence address
One address field
Address selection signal यह निर्धारित करते हैं कि कौन से विकल्प का चयन किया गया है इस दृश्टिकोण से address field की संख्या में कमी की जाती है, Most cases में (if sequential execution) address field का उपयोग नहीं जाता है.

Read More

Variable Format 
इस फॉर्मेट में दो तरह की अलग-अलग माइक्रो इंट्रोडक्शन स्वरूप होते हैं जिसमें एक bit डिजाइन किया गया जाता है, जिसमें प्रारूप का उपयोग किया जा रहा है,
इसे पहले Format  में शेष bit का इस्तेमाल कंट्रोल सिग्नल को सक्रिय करने के लिए किया जाता है.
दूसरे Format में कुछ bits Branch logic module चलाते हैं, और Remaining address प्रदान करते हैं.
First Format वाला  Next sequential address या IR से प्राप्त एक एड्रेस है.
Variable Format
Second format में Conditional or Unconditional Branch specified होती हैं.

No comments:

Post a Comment

सवाल पूछने के बाद "Notify me" आप्शन को ✔(Right Mark) करे, ताकि आपके पूछे गये सवाल का जवाब मिलने पर आपको सुचना मिल जाये:-